राजनीति

ओवैसी के खिलाफ भाजपा ने उतारा महिला प्रत्याशी 

 

 

डेस्क। हैदराबाद सीट पर सन् 1884 से ही ओवैसी परिवार का कब्जा बना हुआ है। इसे ओवैसी का गढ़ भी बोला जाता है। भाजपा ने ओवैसी के खिलाफ महिला प्रत्याशी माधवी लता को पेश किया है।

आने वाले आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियों ने कमर कस ली है। कल ही भाजपा ने अपने कुल 195 उम्मीदवारों के नाम का एलान भी कर दिया था। इसी के साथ तेलंगाना की चर्चित हैदराबाद सीट पर भाजपा ने इस बार कोम्पेला माधवी लता को खड़ा किया है। वर्तमान में इस सीट से एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी सांसद हैं।

Weather forecast: जानिए उत्तर भारत के मौसम का हाल

हैदराबाद सीट पर सन् 1884 से ही ओवैसी परिवार का कब्जा बना हुआ है। इसे ओवैसी का गढ़ भी माना जाता है। बता दें असदुद्दीन ओवैसी के पिता सुल्तान सलाउद्दीन ओवैसी 1984 में पहली बार इस सीट से सांसद बने थे। 2004 तक वह सांसद रहे और बाद में यह सीट असदुद्दीन ओवैसी के पास चली है।

जानिए कौन हैं माधवी लताजी

डॉ. माधवी विरिंची हॉस्पिटल की चेयरपर्सन हैं। वह सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय रहती हैं। हिंदुत्व के लिए वह अक्सर मुखर होती दिखाई देती हैं।

अस्पताल की चेयरपर्सन होने के अलावा माधवी लता भरतनाट्यम डांसर भी हैं।

हैदराबाद में वह सामाजिक कामों के लिए भी जानी जाती हैं। वह ट्रस्ट और संस्थाएं हेल्थकेयर, शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रही हैं। वह लोपामुद्रा चैरिटेबल ट्रस्ट और लतामा फाउंडेशन की प्रमुख हैं।

 इथियोपिया में गृह युद्ध से बिगड़े हालात 

उन्होंने कोटी महिला कॉलेज से राजनीति शास्त्र में एमए किया था। फिलहाल हिंदू धर्म को लेकर उनके भाषण लोगों के बीच काफी लोकप्रिय हैं। इस सीट से पहले भगवत राव ने चुनाव लड़ा था। पहली बार भाजपा ने हैदराबाद से महिला प्रत्याशी पर दांव खेला है।

 भाजपा ने हैदराबाद से पहली बार महिला उम्मीदवार पर दांव खेला है। इससे पहले पार्टी ने भगवत राव को उम्मीदवार बनाया था। हालांकि, भगवत को ओवैसी से लगभग तीन लाख वोटों से हार झेलनी पड़ी थी। इस बार भाजपा ने महिला उम्मीदवार को उतारकर मुकाबला कड़ा करने की कोशिश की है, लेकिन ओवैसी को उसके गढ़ में हराना आसान नहीं होने वाला है। अब देखने की बात ये होगी कि ओवैसी के गढ़ में क्या हिंदुत्व का चेहरा जीत पाएगा कि नहीं।

What's your reaction?

Related Posts

1 of 259