धर्म

Makar Sankranti 2024: राम जी ने भी इस दिन उड़ाई थी पतंग 

डेस्क। Makar Sankranti 2024: भगवान सूर्य (sun) की उपासना का पर्व कहा जाने वाला मकर संक्रांति (Makar Sankranti 2024) का त्योहार इस साल 15 जनवरी को पड़ रहा हैं। मकर संक्रांति इसलिए काफी महत्वपूर्ण भी हो जाती है क्योंकि इस दिन सूर्य मकर राशि से होकर उत्तरायण हो ओर जाता हैं।

सूर्य के उत्तरायण होते ही देवी देवताओं के दिन आरंभ हो जाते हैं और शुभ कामकाज में तेजी के साथ होने लग जाते है। इस दिन गंगा स्नान का काफी महत्व बताया जाता है और खिचड़ी और तिल (Khichdi and Til) दान की परंपरा भी चली आ रही है। ज्योतिष (Astrology) में ये कहा गया है कि मकर संक्रांति के दिन किए गए काम, पूजा पाठ और दान का जीवन पर काफी असर देखने को मिलता है और घर परिवार में सुख शांति और समृद्धि के साथ ही अक्षय पुण्य की भी प्राप्ति होती है। तो चलिए जानते हैं कि मकर संक्रांति पर कौन कौन से शुभ काम करने की सलाह दी जाती रही है।

मकर संक्रांति पर करें ये जरुरी काम

मकर संक्रांति पर गंगा स्नान करना जरुरी है। ऐसा भी कहा जाता हैं कि इसी दिन गंगा धरती पर अवतरित हुई थी। वहीं इसलिए मकर संक्रांति पर गंगा स्नान करते समय या गंगाजल में काले तिल डालकर स्नान करने से पुण्य की अपार प्राप्ति होती है।

आज पीएम मोदी देंगे मुंबई को बड़ा तोहफा, 20 मिनट में तय होगी 2 घंटे की दूरी 

मकर संक्रांति के दिन गाय को हरा चारा खिलाने का काफी महत्व बताया जाता रहा है। इससे सौभाग्य में वृद्धि होने की बात भी बोली जाती है।

मकर संक्रांति के दिन गाय के घी में सफेद तिल मिलाकर मां लक्ष्मी का हवन करना चाहिए साथ ही इससे घर में मां लक्ष्मी हमेशा के लिए वास भी करती हैं।

मकर संक्रांति के दिन पतंग उड़ाना चाहिए। तमिल रामायण में कहा गया है कि मकर संक्रांति के दिन भगवान श्री राम ने भी पतंग उड़ाई थी।

मकर संक्रांति के दिन तिल और गुड़ का सेवन करना चाहिए और इन चीजों का दान भी करना अच्छा माना जाता है।

मकर संक्रांति पर काले और सफेद तिल के साथ साथ ,गुड़ का भी दान करना चाहिए। ऐसा करने पर दरिद्रता का नाश होता है और समृद्धि भी आती है।

Ayushman bharat Card 2024 Apply Process : ये तीन दस्तावेज हुए अनिवार्य 

मकर संक्रांति के दिन खिचड़ी खानी चाहिए वहीं दाल चावल, सब्जियों और घी से बनी खिचड़ी खाने और खिचड़ी का दान को काफी महत्व दिया जाता है।

मकर संक्रांति पर तिल से पितरों को दान करना चाहिए। वहीं इससे पितृ प्रसन्न होते हैं।

मकर संक्रांति के दिन नए अनाज की पूजा के साथ साथ मवेशियों और खेती के उपकरणों की भी पूजा करना अच्छा बताया जाता है। इससे खेती में बढ़ावा भी मिलता है।

मकर संक्रांति के दिन आप नया काम भी शुरू कर सकते हैं। नया काम, घर, बिजनेस, नई गाड़ी या अन्य तरह के शुभ कामकाज के लिए ये दिन सर्वथा उपयुक्त बताया जाता है।

जब राम भक्ति पर होती थी जेल, लखनऊ में चलाया था अभियान 

मकर संक्रांति के दिन सूर्य़ की उपासना के साथ ही साथ शनिदेव की भी पूजा करनी चाहिए। इस दिन पिता सूर्य और पुत्र शनि का मिलन भी होता है। दोनों ही कष्ट हरते हैं और शुभ मंगल करते हैं।

मकर संक्रांति के दिन झाड़ू भी खरीदनी चाहिए। ऐसा करने पर जातक के परिवार पर मां लक्ष्मी की खास कृपा होती है।

मकर संक्रांति के दिन इस मंत्र का 108 बार जाप करना चाहिए – ॐ ह्रीं ह्रीं सूर्याय सहस्रकिरणराय मनोवांछित फलम् देहि देहि स्वाहा।।

मकर संक्रांति के दिन तिल के तेल का दीपक जलाकर सायंकाल के समय मुख्य द्वार पर रख देने से मां लक्ष्मी घर में प्रवेश करती हैं।

What's your reaction?

Related Posts

1 of 165