देश - विदेश

क्यों दुनिया के सामने चुनौती बना शरिया कानून, इन देशों में सड़को पर मुस्लिम 

 

 

डेस्क । अयोध्या में प्रभु राम के भव्य, दिव्य और नव्य मंदिर के निर्माण के साथ ही कई कट्टपंथियों ने इसको लेकर जहर उगलना शुरू कर दिया है। राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा के वक्त से ही कई कट्टरपंथी मौलाना सहित धर्म को आधार बनाकर सियासत करने वालों ने देश के मुसलमानों को ही भड़काना शुरू कर दिया है।

लेकिन फिर रही-सही कसर उत्तराखंड में यूसीसी पर लाए गए बिल ने पूरी कर दी है और भारत में आम मुस्लिमों को भड़काने के लिए कई लोगों ने अपनी पूरी ताकत लगा दी है। इसे लेकर कट्टरपंथी मौलानाओं की बातों में आकर कई मुस्लिम सड़कों पर उतर आए। पर अब ये बवाल भारत ही नहीं यूरोप तक की फैल चुका है। यूरोप में भी अचानक नया बवाल शुरू हो गया है।

Lok Sabha Election 2024: जेपी नड्डा यूपी से शुरु करेगें चुनावी यात्रा

यूरोप में भी हजारों मुस्लिम सड़को पर उतर कर रहे हैं। यूरोप में बसे हुए मुस्लिमों को तुर्की ने अब एक नया विक्टिम कार्ड पकड़ा दिया है बता दें तुर्की ने एक बड़ा षड़यंत्र शुरू कर दिया है।

तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोआन ने धार्मिक मामलों (डियानेट) अकादमी में स्नातक समारोह के दौरान शरिया कानून के आलोचकों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि शरिया कानून के खिलाफ दुश्मनी इस्लाम के खिलाफ भी दुश्मनी मानी जाएगी। राष्ट्रपति ने नए धार्मिक अधिकारियों से समाज के सक्रिय सदस्य बनने का आग्रह किया है। एर्दोआन ने बोला कि यदि आप इतिहास की किताबों को देखेंगे, तो आप देखेंगे कि तुर्क मुस्लिम के बराबर है। एर्दोआन ने जोर देकर बोला और दोनों के बीच कृत्रिम दीवारें बनाने की कोशिश करने वाली किसी भी धारणा की आलोचना करी है। उन्होंने आगे बताया है कि, इस्लाम की पवित्र युद्ध भावना को शामिल किए बिना तुर्कीपन की परिभाषा तुर्की राष्ट्र को एक लोककथा में बदलने का बस एक प्रयास है।

Aadhar Card Lock Unlock Process: इन दो तरीकों से करें अपना आधार लॉक 

अब जो भी शरिया के कट्टर कानूनों के खिलाफ बोलेगा तो उसे इस्लाम विरोधी ही माना जाएगा। एर्गोआन जो यूरोप में कर रहे हैं ठीक वही भारत और पाकिस्तान में बैठे कुछ कट्टर मौलाना भी कर रहे हैं इसी के साथ एर्दोआन दुनियाभर में डर की भावना पैदा करना चाहते हैं।

एर्दोआन मुस्लिमों को शरिया के लिए सड़कों पर आने के लिए भड़का रहे हैं और विशेषज्ञों का मानना है कि इसकी सबसे बड़ी वजह ये है कि डेनमार्क, फ्रांस, इटली, स्वीडन, नीदरलैंड जैसे देश खुलकर शरिया के खिलाफ बोल रहे हैं। नीदरलैंड ने तो शरिया और एर्दोआन पर तीखी प्रतिक्रिया भी दी है।

Solar And Lunar Eclipse: इन राशि वालों के लिए काफी शुभ 

What's your reaction?

Related Posts

1 of 665