राज्य

CM Vishnudeo Sai News: साय के सीएम बनते ही क्यों ये IPS अधिकारी चर्चा में 

 

 

डेस्क। CM Vishnudeo Sai News: सीएम विष्णुदेव साय के कार्यकाल की शुरुआत हो चुकी है। बीते दिन मुख्यमंत्री विष्णुदेव साय की अध्यक्षता में यहां मंत्रालय महानदी भवन में आयोजित कैबिनेट की प्रथम बैठक में राज्य के ग्रामीण अंचल के आवासहीन के लिए अहम फैसले भी लिए गए।

सूत्रो के अनुसार राज्य में 18 लाख 12 हजार 743 जरूरतमंद पविारों को तत्परता से आवास की स्वीकृति देने के साथ ही आवश्यक धनराशि भी उपलब्ध कराई जाएगी। बैठक में उप मुख्यमंत्री द्वय श्री अरूण साव एवं श्री विजय शर्मा भी मौजूद थे।

इस केबिनेट बैठक में निर्णय लिया गया कि प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण अंतर्गत स्थायी प्रतीक्षा सूची के पात्र शेष परिवारों (6,99,439) एवं आवास प्लस सूची के पात्र परिवारों (8,19,999) की स्वीकृति भी करी जायेगी। योजना के तहत निर्माणाधीन 2,46,215 आवासों को भी शीघ्र पूर्ण कराया जाना तय है। राज्य में प्रधामंत्री ग्रामीण आवास योजना के अंतर्गत कुल 17,65,653 आवास एवं अन्य 47,090 आवास कुल 18,12,743 जरुरतमंद पात्र परिवारो को तत्परता से स्वीकृति देने के साथ ही आवश्यक धनराशि भी उपलब्ध करायी जाने की व्यवस्था की जाएगी। इस बैठक में उप मुख्यमंत्री द्वय अरूण साव और विजय शर्मा भी मौजूद रहे।

Jammu Kashmir Election: जम्मू-कश्मीर चुनाव भाजपा नेताओं के लिए खतरे की घंटी 

CM Vishnudeo Sai News: इसी बीच अब चर्चा विष्णुदेव साय के नए प्रशासनिक टीम की हो रही है। हर कोई यह जानने के लिए बहुत उत्सुक है कि सीएम साय किन विधायकों को अपनी टीम में शामिल करने वाले हैं। और इतनी ही दिलचस्पी उनकी नई प्रशासनिक टीम को लेकर है।

प्रदेश का नया मुख्य सचिव और डीजीपी कौन होगा लोगों को यह जानने की भी उत्सुकता है।

अगर बात करें पुलिस विभाग की तो इस डिपार्टमेंट में सबसे ज्यादा बदलाव हो रहे है। ये बताया जा रहा है कि सीएम साय अपने विश्वस पुलिस अधिकारियों में शामिल रहे राहुल भगत को ये बड़ी जिम्मेदारी दे सकते है। ऐसा इसलिए भी क्योंकि भगत सीएम साय के पीएस भी रहे है। तब विष्णुदेव साय केंद्रीय मंत्री हुआ करते थे और जाहिर है साथ काम करने की वजह से उनकी भगत के साथ ट्यूनिंग अन्य अफसरों की अपेक्षा में काफी बेहतर है।

पुतिन को क्यों खटक रही बाइडेन और जेलेंस्की की मुलाकात

CM Vishnudeo Sai News यह बताया जा रहा है कि नए साल में ही एक दर्जन से ज्यादा जिलों के एसपी और संभागो के आईजी बदले जा सकते है। मंत्रिमंडल के गठन के बाद सबसे पहले फैसला ट्रांसफर, पोस्टिंग पर संभव है और चुनाव से पहले तक भाजपा ने कई अफसरों पर आरोप भी लगाए गए थे। उनपर सरकार के इशारे पर काम करने के आरोप लगे थे और ऐसे में उनके भी लूप लाइन में जाने की आशंका बनी हुई है।

What's your reaction?

Related Posts

1 of 736