धर्म

Shardiya Navratri 2023: जानिए कन्या पूजन का शुभ मूहर्त, किस आयु की कन्या को करवाएं भोज

 

डेस्क। Shardiya Navratri 2023: नवरात्रि के अंतिम दिन कन्या पूजन का विशेष महत्व बताया जाता है। व्रत रखने वाले भक्त कन्याओं को भोजन कराने के बाद ही अपना व्रत को खोलते हैं। कन्याओं को देवी मां का स्वरूप मानकर इस दिन उनकी पूजा की जाती है।

कन्या पूजन

ऐसी मान्यता है कि इस दिन कन्याओं को भोजन कराने से घर में सुख, शांति और सम्पन्नता बनी रहती है। कन्या भोज के दौरान नौ कन्याओं का होना अति आवश्यक होता है। माना जाता है कि कन्याएं अगर 10 वर्ष से कम आयु की हो तो जातक को कभी धन की कमी नही होती और उसका जीवन हमेशा उन्नतशील भी रहता है।

बताया जाता रहा है नवरात्रि में कन्या पूजन का बहुत महत्व है। आमतौर पर नवमी को कन्याओं का पूजन करके उन्हें भोजन करवाया जाता है पर कुछ श्रद्धालु अष्टमी को भी कन्या पूजन करते हैं। नवरात्रि में अष्टमी और नवमी के दिन कन्या भोजन का विधान ग्रंथों में विशेष बताया गया है। इसके पीछे शास्त्रों में वर्णित तथ्य यही हैं कि 2 से 10 साल तक उम्र की नौ कन्याओं को भोजन कराने से कई तरह के दोष खत्म हो जाते हैं।

कन्याओं को भोजन करवाने से पहले देवी को नैवेद्य लगाएं और भेंट करने वाली चीजें भी पहले देवी को अर्पित करें। इसके बाद कन्या भोज और पूजन करें और कन्या भोजन न करवा पाएं तो भोजन बनाने का कच्चा सामान जैसे चावल, आटा, सब्जी और फल कन्या के घर जाकर उन्हें भेंट के रूप में दे कर सकते हैं।

जानिए कन्या पूजन का शुभ मुहूर्त

अष्टमी पर पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 07.51 से 10.41 तक, और दोपहर 01.30- दोपहर 02.55 तक का है। वहीं महानवमी का शुभ मुहूर्त सुबह 06.27 से 07.51 और दोपहर का मुहूर्त दोपहर 1.30 से 02.55 तक का निकाला गया है।

What's your reaction?

Related Posts

1 of 165