धर्म

Hartalika Teej 2023 : कैसे रखें तीज का व्रत, जानिए पूजा का शुभ मूहर्त 

 

 

डेस्क। Hartalika Teej 2023 : भगवान शिव व माता पार्वती को समर्पित व्रत हरतालिका तीज का सुहागिनों को काफी बेसब्री से इंतजार रहता है। इस साल हरतालिका तीज व्रत 18 सितंबर 2023, सोमवार को मनाया जाएगा।

ऐसी मान्यता है कि इस व्रत को रखने से सुहागिनों को अखंड सौभाग्य की प्राप्ति होती है और कुंवारी कन्याओं को इसके करने से मनचाहा वर प्राप्त होता है। इस व्रत (Hartalika Teej 2023) में महिलाएं 24 घंटे निर्जला व्रत रखती हैं और रात भर जागकर भजन-कीर्तन भी करती हैं। इसी बीच हरतालिका तीज पर तीन शुभ संयोग बन रहे है।

बन रहे हैं ये तीन शुभ संयोग – Hartalika Teej 2023

ज्यातिष के अनुसार हरतालिका तीज (Hartalika Teej 2023) के दिन इंद्र योग और रवि योग बन रहे है। इसके अलावा चित्रा और स्वाती नक्षत्र का संयोग भी इस दिन बन रहा है। स्वाति नक्षत्र में पूजा बेहद ही शुभ मानी जाती है, प्रदोषकाल में पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 06:23 बजे से शुरू हो रहा है। 

प्रात: काल में पूजा का शुभ मुहूर्त सुबह 06 बजकर 07 मिनट से सुबह 8 बजकर 34 मिनट तक है।

Hartalika Teej 2023: इन मंत्रों का करें जाप

तीज के दिन विवाह संबंधी सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए इस मंत्र का श्रद्धा पूर्वक 11 माला जाप करें, आप इस मंत्र का जाप रुद्राक्ष की माला से करें। इस जाप को संपूर्ण श्रृंगार करके ही करें, शाम को मंत्र जाप करना सर्वोत्तम होता है।

Chanakya Niti: शादीशुदा जीवन में कैसे रखें रिश्ते को बरकरार 

मंत्र है- ‘हे गौरीशंकर अर्धांगी, यथा त्वां शंकर प्रिया तथा माम कुरु कल्याणी, कान्ताकांता सुदुर्लभाम’।

देखें हरतालिका तीज व्रत पूजन विधि – Hartalika Teej 2023

हरतालिका तीज व्रत की शुरुआत एक दिन पहले आधी रात से ही हो जाती है। महिलाएं सोलह शृंगार कर चौकी पर भगवान गणेश, मां पार्वती और भोलेनाथ की मिट्टी की प्रतिमा को स्थापित करती हैं। सबसे पहले विघ्नहर्ता भगवान गणेश की पूजा करी जाती है। इसके बाद मां पार्वती को सुहाग का जोड़ा और शृंगार की सामग्री अर्पित की जाती हैं। हरतालिका तीज (Hartalika Teej 2023) की कथा सुनाकर भगवान शिव और माता पार्वती की आरती की जाती है, बता दें मान्यता है कि तीज की कथा पढ़ने या सुनने के बाद ही व्रत पूरा माना जाता है।

Related Posts

1 of 167