देश - विदेश

ईरान में जारी प्रदर्शन से क्या होगा नए युग का प्रारंभ

विदेश– ईरान में महिलाओं का प्रदर्शन जारी है। 100 दिन से सरकार की नीतियों के खिलाफ महिलाएं सड़क पर हैं लेकिन ईरानी सरकार प्रदर्शकारियों का दमन करने में लगी है। सत्ताधारी लोग लगातार महिलाओं के आत्मविश्वास को तोड़ने की कोशिश कर रहे हैं। लेकिन महिलाओं ने ईरानी सरकार की दमनकारी नीतियों के सम्मुख झुकने से इनकार कर दिया है।

ईरानी महिलाओं का कहना है कि अब चाहें हमारी जान चली जाए लेकिन हम प्रदर्शन से पीछे नहीं हटेंगे। क्योंकि यह हमारे हक की लड़ाई है। यह हमारी आजादी का संघर्ष है। हालाकि ईरानी महिलाओं के जज्बे को देखते हुए, मानवाधिकार आयोग और वकीलों का संगठन उनके साथ खड़ा हो गया है।

मानवाधिकार कार्यकर्ता, ईरान के प्रमुख न्यायधीश अबोलकसेम सलावती को ईरान में फांसी का न्यायधीश कह रहे हैं। हालाकि ईरानी पुलिस प्रदर्शनकारियों पर लगातार अपने जुल्म ढह रही है। प्रदर्शन मामले में ईरानी सरकार ने 7 लोगों को हिरासत में लिया है। इन लोगों के पास दोहरी नागरिकता थी। ईरानी सरकार का कहना है कि यह लोग ईरान से रफ्फूचक्कर होने की योजना बना रहे थे।

हालाकि खबर यह भी है कि ईरान की सरकार इस प्रदर्शन को रोकने के लिए अब बच्चों पर जुल्म करने की रणनीति बना रही है। सूत्रों से मिली ख़बर के अनुसार बच्चों को अब ईरानी सरकार मौत की सजा देने का फिराक में है। वहीं प्रदर्शकारियों द्वारा सरकार की नीतियों का जमकर विरोध हो रहा है। प्रदर्शनकारी हर वह कृत्य कर रहे हैं जो ईरान सरकार की नीतियों के खिलाफ है। जानकारों का कहना है कि यदि महिलाओं नें हार नहीं मानी तो वह अपने हक के साथ ईरान में एक नए युग का आरम्भ करेंगी।

Show More

Related Articles

Back to top button