देश - विदेश

Ram Mandir: क्या अधूरे मन्दिर की प्राण प्रतिष्ठा शास्त्र विरुद्ध

 

 

डेस्क। Ram Mandir: अयोध्या में 22 जनवरी को राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम होने जा रहा है। इस समारोह में चार शंकराचार्य शामिल नहीं हो रहे हैं। पर चार में से दो ने आयोजन को अपना समर्थन दे दिया है।

बता दें विश्व हिंदू परिषद के कार्यकारी अध्यक्ष आलोक कुमार का कहना है कि केवल ज्योतिष के शंकराचार्य ने ही इस आयोजन के खिलाफ बयान दिया है। इसके अलावा सभी शंकराचार्य इसके समर्थन में हैं और उत्तराखंड के ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य अविमुक्तेश्वरानंद ने रविवार को ये बताया कि आखिर उन्होंने ऐसा क्यों कहा कि राम मंदिर अभी अधूरा है और इसलिए वह इस पूरे कार्यक्रम में शामिल भी नहीं होंगे।

इस भाजपा नेता को जान से मारने की मिल रही बार बार धमकी 

उन्होंने कहा कि कोई भी मंदिर भगवान के शरीर की तरह होता है। मंदिर का शिखर भगवान की आंखों की तरह होता है और कलश सिर की भाती है। इसके अलावा मंदिर का ध्वज भगवान के केशों की तरह होता है। उन्होंने कहा, यह ठीक नहीं है कि बिना भगवान के सिर और आंखों के ही प्राण प्रतिष्ठा की जाए। यह शास्त्रों के भी विरुद्ध है। इसलिए मैं कार्यक्रम में नहीं जाऊंगा क्योंकि अगर मैं गया तो लोग कहेंगे कि मेरे सामने ही शास्त्र का उल्लंघन हुआ।

 इसलिए मैंने इसपर सवाल खड़ा किया था और कहा था कि जब मंदिर का पूरा निर्माण हो जाए तब अयोध्या ट्रस्ट के लोग इसकी प्राण प्रतिष्ठा का कार्यक्रम करवाएं।

पाकिस्तानी सेना के जवानों पर आतंकवादियों का हमला 

आपको बता दें कि 22 जनवरी को होने वाले प्राण प्रतिष्ठा आयोजन में चारों शंकराचार्य नहीं पहुंच रहे हैं। हालांकि दो ने इस कार्यक्रम के समर्थन में लेटर भी जारी किया है। बता दें कि शंकराचार्यों को हिंदू शास्त्रों का अधिष्ठाता माना जाता है जिसमें उत्तराखंड, ओडिशा, कर्नाटक और गुजरात के मठों में शंकराचार्य है्ं। चारों के ही इस कार्यक्रम में ना शामिल होने की वजह से कई तरह के सवाल भी खड़े किए जा रहे हैं।

साथ ही जान लिजिए कि पुरी के शंकराचार्य निश्चलानंद सरस्वती ने बोला है कि चारों शंकराचार्यों के बीच में प्राण प्रतिष्ठा को लेकर कोई भी मतभेद नहीं है। उन्होंने कहा कि भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा काफी जरूरी है। हालांकि शास्त्रों का पालन ना होने पर इसमें नकारात्मक प्रभाव की आशंका है। ऐसे में वेद शास्त्र के अनुसार ही प्राण प्रतिष्ठा होनी चाहिए।

 उनका का कहना है कि चारों शंकरचार्यों ने खुले तौर पर प्राण प्रतिष्ठा का स्वागत भी किया है। हालांकि वे कार्यक्रम में नहीं शामिल हो सकेंगे पर बाद में वे अपनी सुविधा अनुसार अयोध्या आएंगे।

Congress leader Milind Deora: मिलिंद देवड़ा बोले 55 साल पुराना रिश्ता खत्म 

गुजरात के द्वारका शारदा पीठन की तरफ से ये कहा गया कि कुछ जगहों पर बिना जगद्गुरु शंकराचार्य की अनुमति के ही मठ का राम मंदिर के बारे में मत प्रकाशित किया गया जो कि भ्रामक है। हालांकि यह भी बोला गया कि मठ चाहता है कि प्राण प्रतिष्ठा का सारा कार्यक्रम शास्त्रानुगत ही कराया जाए।

What's your reaction?

Related Posts

1 of 665