देश - विदेश

Parliament security breach: लखनऊ से जुड़ी है वारदात की कड़ी 

 

डेस्क। Parliament security breach: संसद की सुरक्षा में हुई चूक मामले ने देश भर को हैरत में डाल दिया है। इसने देश की सुरक्षा व्यवस्था पर भी सवाल उठाए हैं। इस घटना को अंजाम देने की साजिश करीब एक साल पहले रची गई थी। शुरुआती जांच और आरोपियों से पूछताछ में पुलिस को कुछ अहम जानकारियां भी मिली हैं।

सूत्रों ने यह बताया कि आरोपियों के जूते विशेष रूप से डिजाइन किए गए थे। साथ ही एक घुसपैठिए ने लखनऊ में मोची से ऐसे 2 जोड़ी जूते तैयार करवाए थे। इनके तलवों में 2.5 इंच गहरी जगह छोड़ी गई थी। बता दें धुएं के केन इसी में छिपाए जाते थे। पुलिस अधिकारी ने ये कहा कि इन केन को आरोपी सागर शर्मा ने लखनऊ से ही खरीदा था।

आरोपी सागर शर्मा और मनोरंजन डी शून्यकाल के दौरान दर्शक दीर्घा से लोकसभा कक्ष में कूद गए और उन्होंने केन से पीली गैस उड़ाते हुए नारेबाजी भी की। हालांकि, सांसदों ने उन्हें पकड़ लिया और लगभग उसी समय संसद भवन के बाहर अमोल शिंदे और नीलम ने केन से लाल और पीले रंग का धुआं फैलाते हुए तानाशाही नहीं चलेगी आदि नारे लगाए।

Parliament security breach: लखनऊ से जुड़ी है वारदात की कड़ी 

 संसद पर 2001 में किए गए आतंकी हमले की बरसी के दिन सुरक्षा में सेंधमारी की बड़ी घटना उस वक्त सामने आई जब लोकसभा की कार्यवाही के दौरान दर्शक दीर्घा से 2 लोग सदन के भीतर कूद पड़े। इन्होंने केन के जरिए पीले रंग का धुआं भी फैला दिया।

Parliament security breach: आरोपियों के कब्जे से पर्चा हुआ बरामद

पुलिस ने ये कहा कि आरोपी 1929 के दौरान भारत में ब्रिटिश शासन के समय क्रांतिकारी भगत सिंह की ओर से सेंट्रल असेंबली के अंदर बम फेंके जाने जैसी घटना को भी दोहराना चाह रहे थे। आरोपियों के कब्जे से एक पर्चा बरामद किया गया जिसमें ये लिखा था, ‘प्रधानमंत्री लापता हैं और जो भी उन्हें ढूंढे़गा उसे स्विस बैंक से पैसा दिया जाएगा।’ पुलिस ने कहा कि आरोपियों ने संसद में पर्चे फेंकने की योजना भी बनाई थी। उन्होंने तिरंगे भी खरीदे थे।

 सूत्रों ने ये बताया कि आरोपियों के पास से कुछ और पर्चे बरामद किए गए, जिनमें युवाओं को सरकार के खिलाफ भड़काने वाले संदेश लिखे हुए थे। एक सूत्र ने कहा कि ऐसे ही एक पर्चे पर लिखा था, ‘देश के लिए जो नहीं खौला वो खून नहीं बल्कि पानी है।’

Parliament security breach: मुख्य आरोपी हुए गिरफ्तार

आपको बता दें कि संसद की सुरक्षा में सेंध लगाने की घटना के मुख्य आरोपी ललित झा को गुरुवार शाम में गिरफ्तार कर लिया गया है। पुलिस अधिकारियों ने ये कहा कि झा एक व्यक्ति के साथ राष्ट्रीय राजधानी के कर्तव्य पथ पुलिस थाने पहुंचा, जहां उसे विशेष प्रकोष्ठ को सौंप दिया गया है।

पुतिन को क्यों खटक रही बाइडेन और जेलेंस्की की मुलाकात

अधिकारी ने कहा, ‘ललित झा कर्तव्य पथ थाने आया जहां उसे गिरफ्तार कर किया गया। उसे विशेष प्रकोष्ठ को सौंप भी दिया गया जो घटना की जांच करने में जुटे है।’ दिल्ली की एक अदालत ने सेंध लगाने के आरोप में गिरफ्तार चार लोगों को गुरुवार को 7 दिन की पुलिस हिरासत में भी भेज दिया है।

PM JanDhan Yojana: बिना बैलेंस के 10 हजार तक निकालने की सुविधा 

इसके अतिरिक्त दिल्ली पुलिस ने चार लोगों मनोरंजन डी, सागर शर्मा, नीलम वर्मा, अमोल शिंदे को आतंकवाद विरोधी गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के अंतर्गत बुधवार को गिरफ्तार किया है।

What's your reaction?

Related Posts

1 of 665