Monday, December 5, 2022

क्या होता है टू फैक्टर ऑथेन्टिकेशन, आज ही करें खुद को सुरक्षित 

 

डेस्क। साइबर क्राइम के दौर में तमाम बड़ी टेक कंपनियां अपने यूजर्स की सेफ्टी के लिए कई तरह के अपडेट समय-समय पर लेकर आती ही रहती हैं। वहीं इस कड़ी में दिग्गज टेक कंपनी गूगल (Google) का टू- फैक्टर ऑथेन्टिकेशन (2-Factor Authentication) या टू-स्टेप वेरिफिकेशन (2-Step Verification) आपके ऑनलाइन अकाउंट्स की एडिशनल सिक्योरिटी के लिए महत्वपूर्ण फीचर की पेशकश भी करता है। साथ ही यह फीचर 9 नवंबर, 2021 से ही ऑटोमैटिकली शुरू भी हो चुका है। इससे पहले गूगल ने यह ऐलान किया था कि वह टू-स्टेप वेरिफिकेशन में यूजर्स को ऑटोमैटिकली एनरोल करना शुरू कर दें।

कंपनी ने यह भीकहा था कि यह केवल उन अकाउंट्स के लिए है, जिन्होंने टू-फैक्टर ऑथेन्टिकेशन के लिए पहले से साइन अप न किया हो। वहीं गूगल का यह कहना था कि उचित रूप से कॉन्फिगर किए गए अकाउंट्स को ऑटोमैटिकली एनरोल किया जाता है। इसका मतलब है कि जिन अकाउंट्स में फोन नंबर या रिकवरी ईमेल जुड़ा हुआ है, वे ऑटोमैटिकली टू-फैक्टर ऑथेन्टिकेशन के माध्यम से सुरक्षित हो जाएंगे। वहीं यूजर्स अपने गूगल अकाउंट का सिक्योरिटी चेकअप करके इसका पता भी लगा सकते हैं।

इन स्टेप्स को फॉलो करके 2 स्टेप वेरिफिकेशन को  करें एक्टिवेट 

 यूजर्स खुद 2 स्टेप वेरिफिकेशन को ऑन कर सकते हैं।

सबसे पहले आप Google अकाउंट ओपन करें।

नेविगेशन पैनल में जाकर सिक्योरिटी (Security) ऑप्शन को चुनें।

अब गूगल में साइन इन कर 2 स्टेप वेरिफिकेशन (2-Step Verification) का चयन भी करें।

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,593FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles