Bol Bindas || इसकी सुंदरता स्वर्ग से कम नहीं

0
180

छठ महापर्व की महिमा है अपरंपार…..

विवेक चौबे की ✍️ से…..

 

गढ़वा : हिंदुस्तान में पर्वों व त्योहारों की कोई कमियां नहीं हैं। यहां विभिन्न धर्मों के लोग निवास करते हैं। यह भी सत्य है कि रहते तो विभिन्न धर्मों के लोग हैं, किन्तु अनेकता में भी एकता है। वहीं हिन्दू धर्म की बात करें तो सभी धर्मों में हिंदुत्व अपना एक अलग महत्व रखता है। होली, दुर्गा पूजा, दशहरा, दीपावली सहित कई पर्व हैं, किन्तु इनसब में छठ एक महापर्व है, जिसकी महिमा अपरंपार है। छठ हिंदुओं की आस्था का पर्व है। इसमें व्रती सूर्य की उपासना किया करते हैं।

जलाशय के समीप किया जाता है यह पर्व…..

छठ पर्व को लेकर व्रतियों व उनकी मनौति पर निर्भर करता है कि वे किस स्थान को चुनेंगे। सबसे बड़ी बात तो यह कि यह महापर्व किसी जलाशय जैसे- नदी, झरना, कुआं, तालाब आदि के समीप किया जाता है। जहां श्रद्धालुओं को स्नान करने व सूर्य को अधर्य देने में कोई परेशानी न हो। इसके लिए कुछ लोग सुंदर स्थान भी अपनी इच्छा से नियुक्त करते हैं।

श्रद्धालुओं को रिझाता है यह झरना…..

जिले के कांडी प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत प्रसिद्ध सतबहिनी झरना व पर्यटन स्थल अति सुंदर व मनमोहक जगह है। इसकी सुंदरता तो स्वर्ग से तनिक भी कम नहीं है। एक बार जो पर्यटक यहां आता है, वह सात जन्मों तक भी यहां की निखरती सौंदर्य को चाह कर भी भूल नहीं सकता।

यहां विशाल है छठ घाट….

सतबहिनी झरना व पर्यटन स्थल में विशाल छठ घाट है, जहां लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। वहीं दो और नए छठ घाट का भी निर्माण हुआ है। साउंड, डेकोरेशन, लाइटिंग, पानी सहित कई प्रकार की व्यवस्थाएं झारखण्ड राज्य हिन्दू धार्मिक न्यास बोर्ड के तहत उपलब्ध की जाती है।

यह है श्रद्धालुओं के आस्था का केंद्र…..

ऐसे तो प्रतिदिन सैकड़ों पर्यटकों का आना-जाना जारी ही रहता है। जिसमें झारखण्ड के अलावे छत्तीसगढ़, गुजरात, बिहार, उत्तरप्रदेश सहित अन्य राज्यों के भी पर्यटक शामिल होते हैं। यह स्थल श्रद्धालुओं के आस्था का केंद्र तो है ही। साथ ही स्वर्ग से भी सुंदर है यह स्थल।

बड़ी विशेषता यह कि…..

इस स्थल की सबसे बड़ी विशेषता यह कि सालों भर झर-झर झरते रहता है मनोरम झरना। वहीं इस झरने की नीचे से हो कर कल-कल करती बहती एक पंडी नदी भी है।

यहां मिलता है ओ सुकून…..

सतबहिनी झरना व पर्यटन स्थल में ओ सुकून मिलता है, जो किसी की जिंदगी में कभी नहीं मिल पाती है। यहां श्रद्धालु पहुंचकर खुद को धन्य समझते हैं। ऐसा कहा जाता है कि सच्चे हृदय से मनौति मांगने वाले हर श्रद्धालुओं की मन्नत अवश्य पूरी होती है।

इस स्थल का है बड़ा क्षेत्र…..

सतबहिनी झरना तीर्थ स्थल 24 एकड़ क्षेत्र में विद्यमान है। यहां कई मंदिर स्थित हैं, जिसमें मां सतबहिनी, बजरंगबली, भगवान शिव, मां काली, सूर्य मंदिर, मां लक्ष्मी सहित कई मंदिर शामिल हैं। लोग आनंद लेते हुए झरना में स्नान कर सभी मंदिरों में जा कर माथा टेक मनौति मांगते व पूजा-अर्चना किया करते हैं।

Please follow and like us: