Breaking NewsLatest Newsदेश - विदेश

सऊदी के क्राउन प्रिंस की धमकी से क्या डर जाएगा अमेरिका 

 

डेस्क। तेल निर्यातक देशों के संगठन ओपेक प्लस के तेल उत्पादन में कटौती के फैसले के बाद से अमेरिका और सऊदी अरब के रिश्ते में खटाई देखने को मिल रही हैं। अमेरिका का कहना है कि ओपेक प्लस के इस फैसले से यूक्रेन में तबाही मचा रहे रूस को बहुत फायदा पहुंचेगा।

वहीं इस कड़ी में ओपेक प्लस में दबदबा रखने वाले सऊदी अरब अपनी ओर से सफाई भी पेश कर चुका है। कि इसी बीच सऊदी क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के कजिन सऊद अल शालान ने अमेरिका का बिना नाम लिए पश्चिमी देशों को बड़ी धमकी दी है।

क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के चचेरे भाई प्रिंस सऊद अल शालान की वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। जिसमें प्रिंस सऊद पश्चिमी देशों से यह कहते हुए नजर आ रहे हैं, ‘जो कोई भी सऊदी किंगडम के अस्तित्व को चुनौती देगा, हम सभी जिहाद और शहादत के लिए बने रहेंगे। वहीं इस कड़ी में उन सभी के लिए आप जो सोचते हैं कि वो हमें भी धमका सकते हैं।’

इसके अलावा सऊदी मानव अधिकारों की वकील अब्दुल्लाह की माने तो, पश्चिमी देशों को जिहाद की चुनौती देने वाले सऊद अल शालान सऊदी अरब के फाउंडर किंग अब्दुलअजीज के पोते हैं वहीं सऊद अल शालान का यह बयान उस समय आया है, जब अमेरिका लगातार सऊदी अरब के तेल उत्पादन घटाने के फैसले को लेकर टिप्पणी करता रहा है।

बता दें ओपेक प्लस ने तेल उत्पादन में कटौती का जो फैसला किया है, अमेरिका उससे नाराज है। वहीं तेल उत्पादन बढ़ाने को लेकर अमेरिका लगातार सऊदी अरब से बातचीत भी कर रहा था। जानकारों के अनुसार अमेरिका को डर था कि जो दौर विश्व में चल रहा है, अगर तेल उत्पादन में कटौती की गई तो कच्चे तेल की कीमतें आसमान भी छूने लगेंगी।

वहीं अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन साल 2022 में सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के मामले को किनारे करते हुए सऊदी अरब यात्रा पर भी पहुंचे थे जहां क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने उनकी मेजबानी करी थी। 

सऊदी अरब की यात्रा के बाद से जो बाइडन को पूरी उम्मीद थी कि ओपेक प्लस में अहम हिस्सेदारी रखने वाला सऊदी अरब तेल के उत्पादन में कटौती का फैसला नहीं लेने देगा पर बाइडन की सोच से बिल्कुल उलट ओपेक प्लस ने प्रतिदिन 20 लाख बैरल तेल उत्पादन को घटा देने का फैसला किया। इससे अमेरिका सऊदी अरब से बुरी तरह नाराज है। 

Show More

Related Articles

Back to top button