Monday, December 5, 2022

जाने क्यों सोशल मीडिया बन गया अपीम का नशा और बर्बाद कर रहा युवाओं को

Media – आज हम तकनीकी की दुनिया मे जी रहे हैं। आज हमारी सुबह हमारे मोबाइल फोन से हो रही है। वही अगर हम बात मीडिया की करे तो आज हर व्यक्ति मीडिया का हिस्सा हो गया है। कोई भी इस दुनिया मे ऐसा नही है जो मीडिया से न जुड़ा हो। क्योंकि सोशल मीडिया के आने से सिटीजन पत्रकारिता को बढ़ावा मिला है और आज हर व्यक्ति अपने स्तर पर अपने इलाके का पत्रकार हैं। 

लोग अब सोशल मीडिया का उपयोग करके अपने इलाके के मुद्दों को उठा रहे हैं। जो भी मुद्दा मुख्य मीडिया की नजर से छूट जा रहा है उसे आम नागरिक सोशल मीडिया के माध्यम से मुख्य धारा में ला रहे हैं। आज के समय मे सोशल मीडिया इतना प्रबल हो गया है कि मुख्यधारा की मीडिया की खबरों का यह सोर्स बन गया है। यह किसी भी व्यक्ति को ट्रेड में ला देता है।

लेकिन क्या आप जानते हैं कि जबसे सोशल मीडिया का दौर आया है। इसका खबरों पर क्या प्रभाव पड़ा है। क्योंकि सोशल मीडिया में हर व्यक्ति सूचना देना वाला बना हुआ है। हर व्यक्ति पत्रकार बना हुआ है इससे खबरों का पूरा परिदृश्य बदल गया है। आज कई खबरे ऐसी आ रही है जो लोगो को भ्रामक जानकारी दे रही है। लोग सोशल मीडिया के माध्यम से अपना एक एजेंडा चला रहे हैं और लोगो को गुमराह कर रहे हैं।

जहां एक तरफ़ सोशल मीडिया उन मुद्दों को उठाने में अहम भूमिका निभा रही है जिन्हें दबाया जा रहा है। वह दूसरी ओर इसके बढ़ते उपयोग से खबरों की विश्वशनीयता खत्म होती जा रही है। आज बड़े बड़े समाचार संस्थान सोशल मीडिया पर प्राप्त जानकारी के अनुसार खबरों का संचरण करते हैं जिसका परिणाम यह होता है कि जनता को एक गलत जानकारी एक बड़े जनमाध्यम से प्राप्त होती है और जनता उसपर विश्वास कर लेती है।

सोशल मीडिया जितनी ही सरल और लोकप्रिय बना हुआ है उतना ही इसका उपयोग लोगो के लिए खतरनाक होता जा रहा है। आज लोग इसके माध्यम से अपनी सर्जनात्मकता का जमकर प्रचार प्रसार कर रहे है और यह लोगो की इनकम का माध्यम बन गया है। लेकिन यह कही न कही युवाओं के लिए नशे की लत बन गया है। युवा सोशल मीडिया के माध्यम से आज कट्टरपंथी विचारधारा के शिकार होते जा रहे हैं।

सोशल मीडिया का प्रभाव लोगो के मस्तिष्क पर कुछ ऐसा पड़ा है कि लोग अब तथ्यों की जांच किए बिना ही खबरों को सच मान लेते हैं और उनका प्रचार प्रसार करने लगते हैं। जिसके चलते समाज मे लोगो का ज्ञान कम हो रहा है और अब लोग बिना किसी कथन को जांचे परखे उसपर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे हैं।

सोशल मीडिया की अगर सबसे बड़ी कमी का हम आकलन करे तो इसकी कमी यह है कि इसपर किसी का नियंत्रण नही है। इसकी खबरों की कोई जांच पड़ताल नही होती। लोग जैसी चाहे वैसी खबरों का इसके माध्यम से प्रसारण करते हैं और लोगो को एक भावनात्मक रूप से आकर्षित करके अपनी ब्रांड वैल्यू बढाते है। 

Related Articles

Stay Connected

0FansLike
3,593FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Latest Articles