राज्य

यूपी में गर्मी बनी वैज्ञानिकों के लिए चिंता

डेस्क। वैज्ञानिकों का ये कहना है कि मानव गतिविधियों की वजह से जलवायु पर खासा असर नहीं पड़ रहा है वहीं इस वजह से एशिया भर में अरबों लोग भीषण गर्मी से जूझ भी रहे हैं। साथ ही उत्तर भारत में तापमान लगभग 50 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच चुका है। 

जलवायु परिवर्तन का असर पूरी दुनिया पर पड़ता दिख रहा है। कहीं गर्मी तो कहीं बारिश का तांडव भी जारी है। भारत  के कई हिस्सों में गर्मी से कोहराम मचा हुआ है तो आए दिन लोगों के मरने की खबर भी आई है। तापमान ने तो सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं वहीं पारा अब तक 50 डिग्री के पार जा चुका है। 

इस बीच कई अधिकारियों ने यह बताया है कि इस बार गर्मी के मौसम में अबतक 40 हजार से अधिक हीटस्ट्रोक के मामले भी देखने को मिले हैं। 

Sukanya Samriddhi Yojana: जानिए कैसे करें निवेश, क्या मिलेगा लाभ

प्रचंड गर्मी ने पूरे देश में सौ से भी ज्यादा जीवन खत्म किए हैं। जबकि पूर्वोत्तर के कुछ हिस्से भारी बारिश और बाढ़ से जूझ रहे हैं।

वैज्ञानिकों का यह कहना है कि मानव गतिविधियों की वजह से जलवायु पर खासा असर भी पड़ता दिखाई दे रहा है। इसकी वजह से एशिया भर में अरबों लोग भीषण गर्मी से जूझ रहे हैं। उत्तर भारत में तापमान लगभग 50 डिग्री सेल्सियस (122 डिग्री फ़ारेनहाइट) तक चला गया है जोकि अब तक की सबसे लंबी गर्मी की लहरों में से एक बन चुका है।

गर्मी से एक दिन में गई 14 लोगों की जान, उत्तर भारत में बरस रहा कहर 

प्रचंड गर्मी का अंदाजा इस बात से भी लगाया जा सकता है कि बेचारे पक्षी आसमान में उड़ने की बजाय धरती पर आकर गिर रहे हैं। वहीं अस्पतालों में गर्मी से प्रभावित रोगियों की संख्या भी लगातार बढ़ती जा रही है। लोग जरूरी काम के लिए दोपहर में घर से बाहर नहीं जा पा रहे हैं। इन सब की वजह यह भी है कि इस बार मार्च में गर्मी की शुरुआत के बाद से हाल के हफ्तों में दिन और रात दोनों का तापमान अपनी चरम सीमा पर पहुंच गया था।

वहीं, सबसे ज्यादा परेशानी देश की राजधानी दिल्ली में दर्ज की जा रही है। यहां लोगों को न तो पीने के लिए पर्याप्त पानी और न ही बिजली मिल रही हैं। हालांकि, स्वास्थ्य मंत्रालय ने संघीय और राज्य संस्थानों को मरीजों का तुरंत इलाज करने का आदेश दिया है। जबकि दिल्ली के अस्पतालों को निर्देश दिया गया था कि वे अधिक बिस्तर उपलब्ध कराएं।

Related Posts

1 of 769