देश - विदेश

पकिस्तान क्यों है G20 से बाहर, जानिए

 

डेस्क। देश की राजधानी दिल्ली में हो रहे G20 शिखर सम्मेलन पर दुनिया भर की नजरे टिकी हुई है। इस शिखर सम्मेलन में दुनिया के 20 देशों के ताकतवर नेताओं ने हिस्सा भी लिया है। भारत जिस तरह से इस आयोजन की मेजबानी कर रहा है उसे देखकर सभी के दिलों में खुशी साफ देखी जा रही है लेकिन पड़ोसी देश पाकिस्तान को बिल्कुल भी अच्छा नहीं लग रहा है।

भारत की बढ़ती साख को देखकर पाकिस्तान के पेट में दर्द होने लगा और आपको बता दें कि पाकिस्तान को इस तरह की मेजबानी का मौका पहले कभी नहीं मिला और ऐसे में पाकिस्तान इस भव्य आयोजन को भारत में होता देख परेशान है। 

आखिर G20 क्या है?

इससे पहले आइए जानते हैं कि G20 क्या है? G20, 20 देशों का एक समूह है और इस ग्रुप में दुनिया के ताकतवर देश हैं। इस समूह की स्थापना 1999 में हुई थी वहीं इस समूह का उद्देश्य अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक सहयोग को बढ़ाने का है। साथ ही दुनिया के देशों के साथ कदमताल के साथ चलना ही इस ग्रुप की स्थापना के पीछे एक बड़ी वजह रही है जो हम आपको बताने जा रहे हैं।

साल 1999 में विश्व के कई देश आर्थिक संकट का शिकार हो गये और जिसके बाद कई देशों के वित्त मंत्रियों सेंट्रल बैंक के गवर्नर ने मिलकर एक फोरम बनाने की योजना भी बनाई। वहीं इसके बाद इस ग्रुप की नींव पड़ी, शुरुआती दौर में वित्त मंत्री वहां के अधिकारियों के साथ बैठकें हुईं पर 2008 में एक बार आर्थिक मंदी के खतरे ने देशों को डरा दिया था। ऐसे में विदेश मंत्रियों के बाद अब देश के प्रमुख इस समूह की बैठकों में हिस्सा भी लेने लगे।

पाकिस्तान G20 का हिस्सा क्यों नहीं बन पाया है?

अब सवाल ये है कि पाकिस्तान इस ग्रुप में क्यों नहीं है तो जब इस समूह की नींव रखी जा रही थी तो यह देखा गया कि किस देश की अर्थव्यवस्था मजबूत प्रमुख है और इस आधार पर ही 20 देशों को समूह में शामिल किया गया है। जब देशों को इस समूह में शामिल किया जा रहा था, उस समय पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था बहुत ही कमजोर थी, जिसके कारण पाकिस्तान को इसमें शामिल नहीं किया गया।

Related Posts

1 of 664