Bol Bindas || “उमड़” पड़ी “जनसैलाब”

0
495

यहां भव्य मेला का हुआ, आयोजन…..

विवेक चौबे, गढ़वा

 

गढ़वा : जिले के कांडी प्रखण्ड क्षेत्र अंतर्गत प्रसिद्ध सतबहिनी झरना तीर्थ स्थल में प्रत्येक वर्ष की भांति संक्रांति के अवसर पर इस वर्ष भी गुरुवार को एक मेला का आयोजन हुआ। इस मेले में जन सैलाब उमड़ पड़ी। सुबह से लेकर शाम तक लोगों का आना-जाना लगा रहा। इस अवसर पर यहां का दृश्य रंग-बिरंगा तो दिख ही रहा था, बल्कि सुंदरता का नमूना तो पहले से है ही, किन्तु विशेष रूप से आज यह स्थल और भी मनमोहक लग रहा था। यहां तकरीबन 20-30 हजार लोगों की भीड़ देखी गयी। दूर-दूर से आये लोगों ने स्थल का अवलोकन तो किया ही साथ ही मनोरम झरना में स्नान कर विभिन्न मंदिरों में श्रद्धालुओं ने पूजा-अर्चना भी किया। यहां सभी प्रकार की अलग-अलग दुकानें सजी थीं। श्रृंगार स्टोर, होटल, कपड़ा दुकान, खेल सामग्री की दुकान, किताब-कॉपी, जूता-चप्पल, साग-सब्जी, प्रसाद व अगरबत्ती की दुकानें भी लगीं थीं। जरूरतमंदों के द्वारा सामग्रियों की खरीदारी भी धड़ल्ले से की जा रही थी। सतबहिनी झरना तीर्थ स्थल पहुंचने वाली सभी सड़कें व खुश्की रास्ते जाम सी लग रही थीं। खुटहेरिया से लेकर सतबहिनी तक मुख्य सड़क तो भीड़ से फट रही थी। बाइक व फ़ॉर व्हीलर की लंबी कतारें लगी हुई थी। वहीं कांडी पुलिस शांतिपूर्ण वातावरण में मेला का आयोजन सम्पन्न कराने के लिए कड़ी मसक्कत करते देखी गयी। भीड़ को संभालना बड़ी ही मुश्किल थी, किन्तु थाना प्रभारी- नीतीश कुमार के नेतृत्व में पुलिस-बल तैनात व सख्त थी। इसलिए भीड़-भाड़ को बहुत ही आसानी से निपटारा किया गया। थाना प्रभारी ने पुराने कमिटी व नए कमिटी के लोगों से मिले। किसी प्रकार की कोई भी दिक्कतें सामने नहीं आईं, जिससे पुलिस बल को मुश्किलों का सामना करना पड़े। वहीं कमिटी द्वारा बार-बार घोषणा की जा रही थी कि आवागमन पथ पर एक ही स्थान पर भीड़ न जमी रहे। लोग चलते-फिरते रहें। पुलिस जगह-जगह तैनात थी। संक्रांति के अवसर पर आयोजित उक्त मेला में लोगों की जबरदस्त भीड़ थी। काफी संख्या में लोगों ने लाई-चुरा, तिलवा व तिलकुट खा कर हर्षोल्लास के साथ संक्रांति पर्व को मनाया। वहीं थाना प्रभारी- नीतीश कुमार व पत्रकार बंधुओं ने एक साथ खिचड़ी खा कर संक्रांति का आनंद लिया। खाश बात यह कि झारखण्ड राज्य हिन्दू धार्मिक न्यास बोर्ड के तहत तीन दिवसीय मेला का आयोजन होगा।

Please follow and like us: